नई योजना
मात्र 60 महीनों
में अपना निवेश
दुगुना करें
भाग्यलक्ष्मी सिल्वर बोंड
मात्र 60 महीनों में अपना निवेश दुगुना करें
1. यह बोंड कम से कम 10,000 रूपये की राशि का उपलब्ध है, तथा इससे ज्यादा राशि का, 1000 रूपये के गुणात्मक राशि में ही, उपलब्ध हो सकेगा।
2. इस बोंड पर दी गई ब्याज की राशि पर ‘स्त्रोत पर आयकर कटौती’ लागू नहीं होगी। (भविष्य में आयकर से सम्बन्धित नियम समयनुसार परिवर्तित हो सकते है)
हमारे बारे में
और जानकारी

भाग्यलक्ष्मी क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटी सहकारिता कानूनों के अंतर्गत गठित एक वितिय संस्था है,जो अपने सदस्यों के बीच बैंकिंग व्यवसाय करती है । सोसायटी राजस्थान सरकार के को- ऑपरेटिव एक्ट 2001 के अन्तर्गत सरकार द्वारा विनियमित है,जिसका पंजीयन सख्या 1831/टी./2011 है|
निवेश
 
और जानकारी

कोई भी वयस्क व्यक्ति, हिन्दू अविभक्त परिवार (H.U.F.) कम्पनी, ट्रस्ट, भागीदारी फर्म, संस्था, सहकारी समितियां आदि जो भाग्यलक्ष्मी क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटी लिमिटेड के सदस्य हो, सोसायटी की जमा योजनाओं में निवेश कर सकते है।

भाग्यलक्ष्मी क्रेडिट को- ऑपरेटिव सोसायटी को संचालक मण्डल द्वारा संचालित किया जाता है तथा योजना एवं नीति निर्धारण का काम भी संचालक मण्डल के अधिकारों में निहित है । सोसायटी अपनी विभिन्न जमा एवं योजनाओ द्वारा आम आदमी के आर्थिक विकास के लिये प्रयत्नशील है ।

भाग्यलक्ष्मी क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटी में जमा राशि कि सुरक्षा के लिए सरकार ने कानून बना रखे है जिनकी पालना करना वैधानिक रूप से आवशयक है| इसके अंतर्गत किसी भी सहकारी संस्था के पास अपने सदस्यों का फण्ड होना आवश्यक है। सरकार द्वारा निर्धारित इस पूँजी पर्याप्तता मानदण्ड का भाग्यलक्ष्मी क्रेडिट को-ऑपरेटिव सोसायटी लिमिटेड पूर्ण रूप से पालन किया जाता है । सोसायटी द्वारा रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया की KYC नीतियों की पूर्णत: पालना कि जाती है ।

वर्तमान आयकर कानून के अनूसार जमाकर्ता वर्तमान अर्जित ब्याज पर टी.डी.एस. नही काटा जाता, जमा राशि पर नियमानुसार परिपक्वता पूर्व भुगतान एवं ऋण सुविधा उपलब्ध है ।